Thursday, November 16, 2017

प्यासा किनारा

 
प्यासा किनारा 

मै क्या जानू प्यासी तृष्णा 
राधे की थी प्यास कृष्णा 
अजहु ना उमजे नदिया प्यासी 
मन प्रवाह ही बहती वैसी 

याद ना आये मोहे उस पलकी 
ढूंढ ढूंढ रही आस मनकी 
तू क्या जाने मंकी हलचल 
विरह रह गया मन में निश्चल 

तरसाती मोहे मनस्वी तसबीर 
भूल जाउ कैसे रूह की लकीर 
अखियोमे देखा झील किनारा 
प्यासी किनार जैसा मै अकेला  

मनमंदिर की  तसबीर हिल गयी 
वैसी दिल में कबकी छप गयी