Monday, November 27, 2017

तोरा मन दर्पण कहलाये


तोरा मन दर्पण कहलाये 
http://www.lyricsindia.net/songs/2442 प्राणी अपने प्रभु से पूछे किस विधी पाऊँ तोहे प्रभु कहे तु मन को पा ले, पा जयेगा मोहे तोरा मन दर्पण कहलाये - २ भले बुरे सारे कर्मों को, देखे और दिखाये तोरा मन दर्पण कहलाये - २ मन ही देवता, मन ही ईश्वर, मन से बड़ा न कोय मन उजियारा जब जब फैले, जग उजियारा होय इस उजले दर्पण पे प्राणी, धूल न जमने पाये तोरा मन दर्पण कहलाये - २ सुख की कलियाँ, दुख के कांटे, मन सबका आधार मन से कोई बात छुपे ना, मन के नैन हज़ार जग से चाहे भाग लो कोई, मन से भाग न पाये तोरा मन दर्पण कहलाये - २ तन की दौलत ढलती छाया मन का धन अनमोल तन के कारण मन के धन को मत माटि मेइन रौंद मन की क़दर भुलानेवाला वीराँ जनम गवाये तोरा मन दर्पण कहलाये - २
चित्रपट / Film: Kaajal
संगीतकार / Music Director: Ravi
गीतकार / Lyricist: साहिर-(Sahir)
गायक / Singer(s): आशा भोसले-(Asha)