Friday, November 17, 2017

पराये हुवे इतने ,............posted



पराये हुवे इतने

पराये हुवे इतने , के भूल गए अपने
बुलाके भी ना आये, क्या करे सपने

मीठी बाते करके , करीब आये इतने
जैसे हंस का जोड़ा ,चला है तैरने

मन को भुलाया , जिंदगी में रुलाया
इतना प्यार जताया , आखिर क्या पाया

पहचान भूल गए , ये रास्ते प्यार के
चुरा के ले गए , सारे चैन मन के

अब कैसे जिए ,या गम को भुलाये
जोगी बन जाऊ , तुम बिन अकेले

ना तुम याद करना ,  ना आंसू बहाना
ये दिल रो पडेगा , तू  परेशान ना होना

©lyriconlife.com