Friday, March 16, 2018

नजरे मिलाके

नजरे मिलाके
नजरे मिलाके नजरो से दुनिया भूल जाता हूँ
दुनिया कहे कुछ भी मै तुझसे प्यार करता हूँ

हसी तो गालो की गुलाम बनी है
बालोकी लटे मुखड़े को सजा रही है
अदा ओ की यहाँ तुम्हे तो फ़िक्र नहीं
कोई जिगर से जाए हमेशा की सजा है

अखियो का अल्लड पन  गमो में उतार लिया
उदासी की सारे समंदर  पी लिया
फुलसी नासिका  और होटो  के किनारे
मन ने  हमारे किनारे मंदिर बना  लीया

चाँद भी शर्माए उसका गम नहीं
तारे भी टिमटिमाये वैसे कम नहीं
नजरे लगी है अमृत की खोज में
यहाँ तो पूरा चेहरा ही अमृत बना है

दुपट्टा गले लगालिया हमें तो फ़ासी है
दिल खोल के रख दिया हमें तो बेहोशी है
प्यार की चाह भरी है मुखड़े पर
हमें तो गमके  खाइमे ढ़केल दिया

ना मिले इस जनम में सनम
फिर भी गम ना करना
तेरे यादो का मंदिर बनाया मै ने
वहा मिलने जरूर आना

सिनेसे  लगाकर रोना चाहता हु एक बार
क्या भूल हुई कहदो ना एक बार
उदासी भरी आखे  ऐसी क्यों देखरही है
मैने क्या गुनाह किया बता डोना