Friday, March 23, 2018

अंजाम नहीं होता ( मीनकुमारिके आवाज में )( मिना २३ )


(The Meena Kumari's poem is freely translated in English ...Agaj to hota hai )
 अंजाम नहीं होता ( मीनकुमारिके आवाज में )
https://www.youtube.com/watch?v=Z7_ZUr9kSzQ

आगाज़ तो होता है अंजाम नहीं होता 
आगाज़ तो होता है अंजाम नहीं होता
जब मेरी कहानी में वो नाम नहीं होता

जब ज़ुल्फ़ की कालिख में घुल जाए कोई राही
बदनाम सही लेकिन गुमनाम नहीं होता

हँस हँस के जवान दिल के हम क्यों न चुनें टुकडे
हर शख्स की किस्मत में इनाम नहीं होता

बहते हुए आंसू ने आँखों से कहा थम कर
जो मै से पिघल जाए वो जाम नहीं होता

दिन डूबे हैं या डूबी बरात लिए कश्ती
साहिल पे मगर कोई कोहराम नहीं होता



(The Meena Kumari's poem is freely translated in English ...Agaj to hota hai )
Can begin the thing,

Can begin the thing, result can't get
In my life there is no start and theme

if in clumsy net of hairs, hinged a wayfarer
blame he receive but not been lost

with smile of crazy heart, why can't pluck pieces
everyone doesn't have gift in his fate

dripping tears once stopped and asked to eyes
if i melt to so is not a glass of wine

the day is drowned or drowned the wedding boat
if at shore there would not be fog

( painting and translation is done by lyriconlife.com)

--------------------

ना देखा कही उन दिल की आखोसे 
कोई तरस तरस के दिल में रो रहा होता 

कई तसबीरे दिल में टहलती रही 
पर कभी दिल में झांक कर देखा होता 

होगा अदाकारी ये तुम्हारा करम धरम 
पर कभी हमारा थोड़ा सोच लिया होता 

बेबसी पे छोड़ दिया सारा ज़माना 
प्यार भरी दुखी अदाए पेश ना किया होता